नयी तकनीकों के साथ फ़सली विभिन्नता अपना कर कई गुणा बढ़ सकती है किसानों की आय : चेतन सिंह जौड़ामाजरा

0
46

चेतन सिंह जौड़ामाजरा की तरफ से देश में अपनी किस्म का पहला हाईडरोपोनिक यूनिट, बहुमंतवी ग्रेडिंग लाईन और प्लांट हैल्थ क्लीनिक की शुरुआत

इंडो-इजरायल प्रोजैक्ट के अंतर्गत स्थापित सब्जियों के लिए सैंटर आफ एक्सीलेंस में किसानों को फ़सली विभिन्नता को और बड़े स्तर पर अपनाने का दिया न्योता

जौड़ामाजरा की तरफ से किसानों को हाईटेक खेती अपनाने की ताकिद, पंजाब सरकार करेगी हर संभव सहायता

चंडीगढ़, 02 मार्चः

पंजाब के किसानों की आय बढ़ाने के मुख्यमंत्री भगवंत मान के सपने को पूरा करने हेतु फूड प्रोसेसिंग और बाग़बानी मंत्री चेतन सिंह जौड़ामाजरा ने देश में अपनी किस्म की पहली बहुमंतवी ग्रेडिंग/ सोरटिंग लाईन, हाईडरोपोनिक यूनिट और प्लांट हैल्थ क्लीनिक लैब की शुरुआत करते हुये पंजाब के किसानों को न्योता दिया कि वह रिवायती फ़सली चक्र में से निकल कर फ़सली विभिन्नता को और बड़े स्तर पर अपना कर लाभदायक खेती का अधिक से अधिक लाभ लें।

इंडो- इजरायल प्रोजैक्ट के अंतर्गत यहाँ स्थापित सब्जियों के लिए सैंटर आफ एक्सीलेंस में हाईडरोपोनिक यूनिट और बहुमंतवी ग्रेडिंग/ सोरटिंग लाईन के उद्घाटन के उपरांत सैंटर का दौरा करते हुये फूड प्रोसेसिंग मंत्री चेतन सिंह जौड़ामाजरा ने कहा कि कम पानी की उपभोग वाली फ़सलों/सब्जियों की काश्त को प्राथमिकता देनी मौजूदा समय की मुख्य ज़रूरत है। उन्होंने कहा कि किसान गेहूँ-धान के रिवायती फ़सली चक्र को छोड़ कर हाईटेक खेती अपनाएं जिसके लिए मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में पंजाब सरकार हर संभव प्रशिक्षण और मदद के लिए हमेशा तत्पर है। उन्होंने कहा कि इंडो- इजरायल प्रोजैक्ट का यह सैंटर आधुनिक तकनीकों के द्वारा सब्जियों की काश्त के लिए किसानों को अधिक से अधिक उत्साहित करने के लिए मार्गदर्शक के तौर पर विकसित होगा।

फूड प्रोसेसिंग मंत्री चेतन सिंह जौड़ामाजरा ने कहा कि सब्जियों के सैंटर आफ एक्सीलेंस में अपनायी जा रही तकनीकों के बारे किसानों को अधिक से अधिक जागरूक करके उनको लाभदायक खेती के साथ जोड़ा जायेगा। उन्होंने बताया कि कि बाग़बानी विभाग की तरफ से सैंटर की तकनीकों को गाँव स्तर तक किसानों तक पहुँचाने के लिए मूलभूत तौर पर ज़िला जालंधर और होशियारपुर के 15 गाँवों का चयन किया गया है जिसके अंतर्गत किसानों को थोड़ी ज़मीन में भी अधिक आमदन के प्रति उत्साहित किया जा रहा है। बाग़बानी मंत्री ने किसानों को संबोधन करते हुये आधुनिक तकनीकें अपनाने की ताकिद भी की। उन्होंने नयी तकनीकों के द्वारा सब्जियों की काश्त करने वाले किसानों को सर्टिफिकेट भी बाँटे। बाग़बानी विभाग के डायरैक्टर शैलिंन्दर कौर ने बताया कि सैंटर आफ एक्सीलेंस से भारी संख्या में किसानों की तरफ से सब्जियों की पनीरी लेजा कर अपने खेतों में इस तकनीकी के द्वारा सब्जियों की काश्त की जा रही है। उन्होंने बताया कि यदि किसान इंडो-इजरायल तकनीकों को अपने खेतों में अपनाएं तो एक कनाल में से भी एक एकड़ के बराबर आमदन हासिल कर सकते हैं।

इससे पहले फूड प्रोसेसिंग मंत्री ने विधायक बलकार सिंह, डिप्टी कमिशनर जसप्रीत सिंह, बाग़बानी विभाग के डिप्टी डायरैक्टर डा. लाल बहादुर, सहायक डायरैक्टरों डा. दलजीत सिंह गिल, सुखविन्दर सिंह और सुखबीर सिंह, प्रोजैकट अफ़सर तेजवीर सिंह और दूसरे अधिकारियों समेत सैंटर आफ एक्सीलेंस की अलग-अलग इकाईयों का दौरा किया। उन्होंने सैंटर की कारगुज़ारी पर संतोष जताते हुये कहा कि अधिक से अधिक किसानों को सैंटर की सरगर्मियों के साथ जोड़ा जाये। विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सैंटर के गेट पर स्थापित ख़रीद केंद्रों को भी किसानों और आम लोगों की तरफ से भरपूर प्रोत्साहन दिया जा रहा है।