गुरदासपुर के सरकारी अस्पताल में डिलवरी दौरान नवजन्मे बच्चे की हुई मौत

0
169

भगवान का रूप कहे जाने वाले सरकारी डॉक्टरों पर फिर से लगे लापरवाही बरतने के आरोप गुरदासपुर सरकारी अस्पताल में डिलवरी दौरान नवजन्मे बच्चे की मौत होने पर परिवारक सदस्यों ने गुरदासपुर के सरकारी अस्पताल के मेन गेट बंद कर महिला डाक्टर के खिलाफ रोष प्रदर्शन कर डाक्टर पर लापरवाही बरतने के आरोप लगाए है और कहा कि डाक्टर की लापरवाही के कारण उनके बच्चे की मौत हुई है इस लिए महिला डॉक्टर के खिलाफ सख्त कारवाई की जाए इस मामले की जानकारी देते हुए मृतक नवजन्मे बच्चे के पिता सन्नी ने बताया कि उसकी पत्नी गर्वती थी जिसे 28 नवंबर को गुरदासपुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था तब उसका बच्चा वह पत्नी बिल्कुल ठीक थी लेकिन कल रात को डॉक्टरों ने आ कर कहा कि उनके बच्चे की धड़कन नही मिल रही और आज जब डिलवरी हुई तो कहा की बच्चा मरा हुआ पैदा हुआ है डॉक्टरों का कहना है कि 10 दिन पहिले ही बच्चा मर चुका था लेकिन डॉक्टरों ने पहले ही कहा था कि दोनों सही है इस लिए हमारे बच्चे की मौत महिला डाक्टर की लापरवाही के कारण हुई है उनका कहना है कि बच्चे के शरीर पर नाखून के निशाने पड़े हुए है बच्चे के साथज्यादा खिंच-खिंचाई की गई है जिसके चलते बच्चे की मौत हुई है इस लिए उन्होंने रोष प्रदर्शन कर महिला डॉक्टर के खिलाफ सख्त कारवाई की मांग की है

वही इस मामले में जब एसएमओ डॉ. चेतना से बात की गई तो उन्होंने ने कहा कि वह छुटी पर थी लेकिन अभी उन्हें इस मामले के बारे में पता चला है उन्होंने ने कहा कि महिला डॉक्टर सुमिता ने इस गर्वती महिला ज्योति की डिलवरी की है उन्होंने के कहा कि पहिले बच्चा ठीक था लेकिन बच्चे ने माँ के पेट मे पॉटी कर दी थी जिसके कारण इंफेक्शन होने के कारण बच्चे की धड़कन रुक गई थी जो परिवार को बता दिया गया था लेकिन परिवार ने जो लापरवाही के आरोप लगाए है उसकी जाँच की जाएगी उसके बाद अगली कारवाई की जाएगी